समर्थक

सोमवार, 20 अक्तूबर 2014

दीपावली की शुभकामनाएं

खुशियाँ सबको ही मिलें, दीप जलें घर द्वार 
वर्षों -वर्षों प्यार की, वर्षें खूब फुहार  
वर्षें खूब फुआर ,प्रीत की रीति निभाऊ 
जग में सारे प्यार के गीत नए मैं  गाऊँ
कहे चक्र कविराय हसाएँ प्रतिदिन मन को
दीप जले घर दुआर मिलें खुशियाँ ही सबको

नया अंदाज़ (राकेश चक्र)

जो नहीं कल हो सका 
वह आज कर लो 
जिंदगी में 
कुछ नया अन्दाज भर लो 

सोचना वह बंद कर दो 
हो गया जो भी बुरा है
जिंदगी में आज तक जो 
मिली अपयश की सुरा है

श्रेष्ठ सोचो 
श्रेष्ठ कर लो
यूं स्वयं पर नाज कर लो
कौन है, जिसने न कोई 
भूल जीवन में करी हो 
कौन -सी है डाल, हर ऋतु
में कि जो रहती हरी हो 

बंद खिडकी 
खोल दो अब 
कुछ नया आग़ाज कर लो